क्यू लेसिक: प्रक्रिया, फायदे और जोखिम – Q Lasik: Procedure, Benefits And Risks In Hindi

Q Lasik: What Is It and What Are the Benefits?

क्यू लेसिक क्या है – What Is Q Lasik In Hindi

What Is Q Lasik?क्यू लेसिक आंखों की लेजर सर्जरी का नया और बेहतर रूप है, जिससे दृष्टि समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है। इस प्रकार की सर्जरी पारंपरिक एक्सीमर लेजर के बजाय फेम्टोसेकेंड लेजर का उपयोग करती है। इस नए लेजर का फायदा है कि यह बहुत ज्यादा सटीक कॉर्नियल फ्लैप बना सकती है, जिससे सर्जरी की सटीकता को बेहतर बनाया जा सकता है।

फेम्टोसेकेंड लेजर से सूखी आंखों के विकार और अन्य दुष्प्रभाव होने की संभावना कम होती है। ऐसे में अगर आप लेसिक सर्जरी कराने पर विचार कर रहे हैं, तो क्यू लेसिक सर्जरी आपके लिए सबसे फायदेमंद विकल्प हो सकती है। इस ब्लॉग पोस्ट में हम क्यू लेसिक सर्जरी की प्रक्रिया, फायदे और जोखिम सहित कई सभी जरूरी बातों पर चर्चा करेंगे। इससे आपको किसी भी दृष्टि समस्या से बचने में मदद मिल सकती है।

क्यू लेसिक की प्रक्रिया – Q Lasik Procedure In Hindi

What Is The Procedure Of Lasik?

क्यू लेसिक की प्रक्रिया इस प्रकार है:

1. इस प्रक्रिया में सबसे पहले आपकी कॉर्निया को एनेस्थेटिक ड्रॉप से सुन्न किया जाता है।

2. फिर, आंख को स्थिर रखने के लिए उस पर एक सक्शन रिंग लगाई जाती है।

3. कॉर्निया यानी एपिथेलियम की बाहरी परत को धीरे से उठा लिया जाता है।

4. कॉर्निया में फ्लैप बनाने के लिए सर्जन लेजर का उपयोग करते हैं।

5. इसके बाद सक्शन रिंग को हटा दिया जाता है।

6. इस दौरान सर्जन कॉर्निया को फिर से आकार देने के लिए दूसरे लेजर का उपयोग करते हैं।

7. आखिर में फ्लैप को वापस जगह पर रखकर सर्जन इसे ठीक होने के लिए छोड़ देते हैं।

इस प्रकार क्यू लेसिक एक अन्य प्रकार की लेजर सर्जरी है, जो आंख में अपवर्तक त्रुटियों को ठीक करती है। इसमें दो लेजर का उपयोग शामिल है, जिसमें सर्जन एक लेजर कॉर्निया में फ्लैप बनाने और दूसरी लेजर कॉर्निया को फिर से आकार देने के लिए उपयोग करते हैं। कुल मिलाकर क्यू लेसिक एक सुरक्षित और प्रभावी प्रक्रिया है, जो आपकी दृष्टि और जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकती है।

क्यू लेसिक की कीमत

What is the Cost Of Q Lasik?क्यू लेसिक सर्जरी की कीमत सर्जन और स्थान के आधार पर अलग-अलग हो सकती है। भारत में इस सर्जिकल प्रक्रिया की औसत कीमत 30,000 रुपये से लेकर 80,000 रुपये  के बीच है इससे पहले कि आप लेसिक सर्जरी कराने का फैसला लें, एक अनुभवी नेत्र सर्जन से परामर्श करना जरूरी है। इससे आपको जानने में मदद मिलती है कि यह सर्जरी आपके लिए सही विकल्प है या नहीं।

सावधानी – Precautions In Hindi

क्यू लेसिक की सर्जरी के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां:

  • सर्जरी के दौरान आपको किसी भी तरह की असुविधा महसूस होने से बचाने के लिए आंखों के आस-पास वाले हिस्से को एनेस्थेटिक ड्रॉप से सुन्न किया जाता है।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप सर्जरी के लिए एक अच्छे उम्मीदवार हैं, सर्जन आपकी आंखों की जांच करते हैं और आपके मेडिकल इतिहास के बारे में पूछते हैं।
  • सर्जरी से पहले आपसे एक सहमति फॉर्म पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा जाता है।
  • आपको सर्जरी से कम से कम 2 हफ्ते पहले कॉन्टेक्ट लेंस या चश्मा नहीं पहनना चाहिए।
  • सर्जरी के दिन आपको मेकअप या लोशन नहीं लगाने की सलाह दी जाती है।
  • सर्जरी से 4 घंटे पहले कुछ भी खाना या पीने से बचें।
  • सर्जरी से 2 हफ्ते पहले धूम्रपान से परहेज करें।
  • सर्जरी के दिन आपको परफ्यूम या कोलोन नहीं लगाना चाहिए।
  • सर्जरी से पहले आपको कोई बीमारी या इंफेक्शन नहीं है।
  • सर्जरी के बाद शुरुआती दिनों तक आंखों में खुजली, जलन और आंसू आने जैसी परेशानी हो सकती है। हालांकि, यह लक्षण सामान्य हैं और कुछ दिनों में ठीक हो जाते हैं।

क्यू लेसिक दृष्टि सुधार का सुरक्षित और प्रभावी तरीका है। आमतौर पर 30 मिनट से कम समय वाली इस सर्जरी से ज्यादातर लोगों को बहुत कम या कोई असुविधा नहीं होती है। क्यू लेसिक बहुत कम समय में होने वाली एक आउट पेशेंट प्रक्रिया है। इसका मतलब है कि आप उसी दिन घर जा सकेंगे।

सर्जरी के लिए सही उम्मीदवार

निम्नलिखित व्यक्ति क्यू लेसिक के लिए सही उम्मीदवार हैं:

  • कम से कम 18 साल की उम्र है।
  • कम से कम दो साल के लिए चश्मे का स्थिर प्रिस्क्रिप्शन है।
  • कोई भी आंखों की बीमारी नहीं है।
  • आंसू का अच्छा उत्पादन करने में सक्षम है।

क्यू लेसिक के फायदे – Q Lasik Benefits In Hindi

क्यू लेसिक के कुछ फायदे निम्नलिखित है:

अपवर्तक त्रुटियों में सुधार

यह अन्य प्रकार की लेजर दृष्टि सुधार प्रक्रियाओं से अलग है। इससे आपको नज़दीकीपन (मायोपिया), दूरदृष्टि (हाइपरोपिया) और दृष्टिवैषम्य (एस्टिग्मैटिज्म) सहित अपवर्तक त्रुटियों की एक विस्तृत श्रृंखला के उपचार में मदद मिलती है।

उच्च सफलता दर

यह नैदानिक ​​अध्ययनों में बहुत ज्यादा प्रभावी है। इसमें मरीजों को 20/20 या ज्यादातर मामलों में बेहतर दृष्टि प्राप्त होती है।

कम दुष्प्रभाव

क्यू लेसिक कम दुष्प्रभाव के साथ बहुत ही सुरक्षित और प्रभावी प्रक्रिया है। इसका सबसे आम दुष्प्रभाव आंखों का अस्थायी सूखापन है, जिसे बनावटी आंसू से ठीक किया जा सकता है।

कोई पट्टी या चीरा नहीं

क्यू लेसिक में किसी पट्टी या चीरे की जरूरत नहीं है और पूरा उपचार लेजर से किया जाता है। इसका मतलब है कि आप उसी दिन घर जा सकेंगे। साथ ही किसी भी रिकवरी समय की चिंता किए बिना आप अपने जीवन के साथ आगे बढ़ सकते हैं।

कॉन्टैक्ट लेंस या चश्मे से छुटकारा

क्यू लेसिक सर्जरी का एक मुख्य फायदा है कि यह कॉन्टैक्ट लेंस या चश्मे पर आपकी निर्भरता से छुटकारा दिलाती है। यह ज्यादातर लोगों के लिए बड़ी राहत हो सकती है। यह खासतौर से उन लोगों के लिए फायदेमंद है, जो लंबे समय से खराब दृष्टि से जूझ रहे हैं।

जल्द रिकवरी

क्यू लेसिक सर्जरी करवाने वाले ज्यादातर लोग जल्दी और आसानी से ठीक हो जाते हैं। इनमें से कई लोग सर्जरी के बाद 24 घंटों के अंदर बेहतरीन नतीजे प्राप्त करते हैं। क्यू लेसिक की सर्जरी के बाद आप अपनी दृष्टि में तुरंत अंतर देख सकते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि सर्जरी के दौरान कॉर्निया को फिर से आकार दिया जाता है। इससे बेहतर प्रकाश अपवर्तन और बेहतर दृष्टि प्राप्त करने में मदद मिलती है।

क्यू लेसिक एक प्रकार की लेजर दृष्टि सुधार सर्जरी है। यह आंख में अपवर्तक त्रुटियों को ठीक करने के लिए दो अलग-अलग लेजर का उपयोग करती है। इसे उच्च सफलता दर और कम दुष्प्रभावों के साथ सुरक्षित और प्रभावी प्रक्रिया माना जाता है। ऐसे में अगर आप क्यू लेसिक सर्जरी पर विचार कर रहे हैं, तो अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से बात करें। इससे आपको यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि क्यू लेसिक की सर्जिकल प्रक्रिया आपके लिए सही है या नहीं।

हालांकि, इस सर्जरी की कुछ सीमाएं हैं। आमतौर पर सभी लोग लेजर दृष्टि सुधार के लिए उपयुक्त नहीं हैं, जिससे कई बार सर्जरी के नतीजे सही नहीं होते हैं। कुछ हद तक आपको चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस के उपयोग की अभी भी जरूरत हो सकती है। कुल मिलाकर लेसिक अपेक्षाकृत नई तकनीक है और इसके दीर्घकालिक प्रभाव अभी तक ज्ञात नहीं हैं।

क्यू लेसिक के जोखिम – Q Lasik Risks In Hindi

लेसिक सर्जरी से जुड़े कई जोखिम हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • सूखी आंखें: यह एक सामान्य दुष्प्रभाव है, जो आमतौर पर कुछ महीनों में अपने आप ठीक हो जाता है। हालांकि,  कुछ मामलों में यह स्थायी हो सकता है।
  • फ्लैप की जटिलताएं: सर्जरी के दौरान बनाया गया फ्लैप कभी-कभी अपनी जगह से खिसक या हट सकता है। इसे ठीक करने के लिए आमतौर पर दूसरी सर्जरी की जरूरत होती है।
  • इंफेक्शन: यह एक अन्य दुर्लभ और गंभीर जटिलता है, जिससे दृष्टि हानि हो सकती है।
  • दृष्टि से संबंधित समस्याएं: कुछ लोगों को सर्जरी के बाद कम दृष्टि का अनुभव होता है, हालांकि यह आमतौर पर अस्थायी होता है। कुछ बहुत ही दुर्लभ मामलों में दृष्टि स्थायी रूप से खराब हो सकती है।

इस प्रकार क्यू लेसिक से संबंधित प्रमुख बिंदु हैं। यह देखने के लिए कि क्या आप सर्जरी के लिए एक अच्छे उम्मीदवार हैं, आपको किसी अनुभवी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। साथ ही कोई भी फैसला लेने से पहले जोखिमों और फायदों को जानना सुनिश्चित करें।

निष्कर्ष – Conclusion In Hindi

कुल मिलाकर क्यू लेसिक आंखों की लेजर सर्जरी का अन्य प्रकार है, जो कॉर्निया के आकार को बदलकर दृष्टि में सुधार करती है। इस तरह की सर्जरी का उपयोग निकट दृष्टिदोष, दूरदृष्टि और दृष्टिवैषम्य जैसी अलग-अलग प्रकार की अपवर्तक त्रुटियों के इलाज में किया जा सकता है। क्यू लेसिक उन लोगों के लिए भी बेहतरीन विकल्प है, जो पारंपरिक लेजर दृष्टि सुधार सर्जरी के लिए उम्मीदवार नहीं हैं। क्यू लेसिक सर्जरी का मुख्य फायदा है कि यह मरीजों को बेहतर दृष्टि प्रदान करती है। साथ ही यह सर्जरी जटिलताओं का जोखिम भी कम कर सकती है। इसके अलावा पारंपरिक लेजर दृष्टि सुधार सर्जरी की तुलना में क्यू लेसिक कम खर्चीली है। ऐसे में अगर आप आंखों की लेजर सर्जरी पर विचार कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें और जानें कि क्या क्यू लेसिक आपके लिए सही है।

अगर आप इससे संबंधित ज्यादा जानकारी या मार्गदर्शन चाहते हैं, तो आज ही आई मंत्रा से संपर्क करना सुनिश्चित करें। यह प्लेटफॉर्म आपकी आंखों के लिए सबसे एडवांस सर्जिकल विकल्प प्रदान करता है, जिसमें पीआरकेफेम्टो लेसिकस्माइल सर्जरीस्टैंडर्ड लेसिक और कॉन्ट्यूरा विजन शामिल हैं। अगर आपके पास लेसिक सर्जरीलेसिक सर्जरी की कीमत और लेसिक सर्जरी की प्रक्रिया को लेकर कोई सवाल हैं, तो हमें +91-9711116605 पर कॉल करें। आप हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं।