प्रेसबायोपिया: लक्षण, कारण, निदान और उपचार – Presbyopia: Symptoms, Causes, Diagnosis And Treatment In Hindi

Presbyopia: Comprehensive Guide on This Condition

प्रेसबायोपिया क्या है – What Is Presbyopia In Hindi

What is Presbyopia?प्रेसबायोपिया आमतौर पर आंख की एक ऐसी स्थिति है, जिसमें आंख की करीबी वस्तुओं पर फोकस करने की क्षमता कम हो जाती है। यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का प्राकृतिक हिस्सा है और आमतौर पर 40 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में होता है। हालांकि, प्रेसबायोपिया को चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या सर्जरी से ठीक किया जा सकता है।

आंखों की इस समस्या का सटीक कारण ज्ञात नहीं है, लेकिन कारकों का संयोजन इसका प्रमुख कारण माना जाता है। इसमें आंखों के लेंस का कम लचीलापन और लेंस का आकार नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों की ताकत में कमी शामिल है। इन बदलावों के कारण आपकी आंखों के लिए पास की वस्तुओं पर फोकस करना ज्यादा कठिन हो जाता है। हालांकि, चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या सर्जरी के उपयोग से प्रेसबायोपिया को ठीक किया जा सकता है। प्रेसबायोपिया से प्रभावित उन लोगों के लिए सर्जरी आरक्षित होती है, जो सुधारात्मक लेंस नहीं पहन सकते या नहीं पहनना चाहते हैं।

आमतौर पर प्रेसबायोपिया को ठीक करने के लिए कई प्रकार की सर्जरी का उपयोग किया जा सकता है। इसमें लेजर सर्जरी, रिफ्रेक्टिव सर्जरी और इंट्राओकुलर लेंस इम्प्लांट शामिल हैं। प्रेसबायोपिया एक मेडिकल शब्द है, जिसमें बढ़ती उम्र के साथ आपकी दृष्टि बिगड़ने लगती है। प्रेसबायोपिया लोगों को उनके 40 के दशक में प्रभावित करना शुरू कर देता है। यह एक क्रमिक प्रक्रिया है और ज्यादातर लोग अपने चश्मे में बाइफोकल या प्रोग्रेसिव लेंस का उपयोग करके अनुकूलन करते हैं। अगर आप भी प्रेसबायोपिया के कारण परेशानियों का सामना कर रहे हैं, तो आपके लिए यह ब्लॉग पोस्ट बहुत फायदेमंद हो सकता है।

प्रेसबायोपिया के लक्षण – Symptoms Of Presbyopia In Hindi

Symptoms of Presbyopiaहमारी आंखों के अंदर का प्राकृतिक लेंस बढ़ती उम्र के साथ कम लचीला होता जाता है। इससे हमें करीबी वस्तुओं पर फोकस करने में परेशानी होती है। इस स्थिति को प्रेसबायोपिया कहते हैं, जो किसी व्यक्ति को 40 के दशक की शुरुआत में कुछ हद तक प्रभावित करती है। इसके कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

आंख में खिंचाव

प्रेसबायोपिया के सबसे आम लक्षण आंखों में खिंचाव है। इसका मतलब है कि आपकी आंखें थकी हुई या तनावग्रस्त महसूस कर रही हैं। साथ ही आपको लंबे समय तक पढ़ने के बाद सिरदर्द हो सकता है।

छोटे प्रिंट पढ़ने में कठिनाई

प्रेसबायोपिया के सबसे साफ संकेतों में से एक छोटे प्रिंट को पढ़ने में कठिनाई होना है। जब आप किसी ऐसी चीज को पढ़ने की कोशिश करते हैं जो करीब है, तो आपको शब्द धुंधले या अस्पष्ट दिखाई दे सकते हैं। इसे देखने के लिए आपको वस्तु को अपने चेहरे से और दूर पकड़ना पड़ सकता है।

सिर दर्द

प्रेसबायोपिया भी सिरदर्द पैदा कर सकता है। यह खासतौर से तब होता है, जब आप छोटे प्रिंट पढ़ने की कोशिश या लंबी अवधि के लिए अन्य क्लोज-अप काम कर रहे होते हैं। यह सिरदर्द आपकी आंखों को तनावग्रस्त महसूस कराता है और आपको सिर दर्द का अनुभव होता है।

आंखों की थकान

आंखों की थकान प्रेसबायोपिया का एक अन्य सामान्य लक्षण है। इसका मतलब है कि आपकी आंखें थकी हुई हैं और आपको उन्हें खुला रखने में कठिनाई हो सकती है। साथ ही आप धुंधली दृष्टि और दूर की वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी का अनुभव भी कर सकते हैं।

प्रेसबायोपिया के कारण – Causes Of Presbyopia In Hindi

Causes of Presbyopiaआमतौर पर बढ़ती उम्र के साथ हमारी हमारी आंखों का लेंस कम लचीला होता जाता है। इससे हमारे लिए करीबी वस्तुओं पर फोकस करना कठिन हो जाता है। इस स्थिति को प्रेसबायोपिया कहते हैं और यह हमारी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का एक सामान्य हिस्सा है। हालांकि, कई अन्य कारक प्रेसबायोपिया में योगदान कर सकते हैं। इनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

आनुवंशिकी

प्रेसबायोपिया के मुख्य कारणों में से एक आनुवंशिकी है। अगर आपके माता-पिता या दादा-दादी को प्रेसबायोपिया था, तो आपको भी यह स्थिति विकसित होने की ज्यादा संभावना रहती है। कभी-कभी आनुवांशिकी भी एक अहम भूमिका निभाती है, कि प्रेसबायोपिया कितनी जल्दी विकसित होता है।

स्वास्थ्य स्थिति

डायबिटीज, उच्च रक्तचाप और दिल की बीमारी सहित कई स्वास्थ्य स्थितियों से भी प्रेसबायोपिया हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह स्थितियां आपकी आंखों में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती हैं। यह लेंस को कम लचीला बना सकती हैं, जो किसी व्यक्ति में प्रेसबायोपिया का कारण प्रमुख कारण है।

आंख की चोट

कई बार सिर या आंख की अन्य चोट से आपको प्रेसबायोपिया हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि चोट आपकी आंख के लेंस को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों या तंत्रिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है। इस प्रकार की चोटें आमतौर पर प्रेसबायोपिया का कारण बनती हैं, जो जीवन में बाद में विकसित होती हैं।

ट्रॉमा या आंख की सर्जरी

आंख में किसी प्रकार का ट्रॉमा या सर्जरी भी प्रेसबायोपिया का कारण बन सकती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि ट्रॉमा से आपकी आंख के लेंस या इसे नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को नुकसान पहुंच सकता है। मोतियाबिंद जैसी सर्जरी में आपकी आंख के लेंस को हटाया जाता है, जो प्रेसबायोपिया का कारण बन सकती है।

प्रेसबायोपिया का निदान – Diagnosis Of Presbyopia In Hindi

प्रेसबायोपिया का निदान करने के लिए सबसे अच्छा तरीका एक व्यापक आंखों की जांच है। इसके अलावा नेत्र रोग विशेषज्ञ आपके लक्षणों के बारे में पूछते हैं और स्नेलन चार्ट या अन्य दृष्टि परीक्षणों का उपयोग करके प्रत्येक आंख में आपकी दृष्टि की जांच करते हैं। अगर आप कॉन्टैक्ट लेंस या चश्मा पहनते हैं, तो वह उनके साथ आपकी दृष्टि का भी आंकलन करते हैं। आपके लक्षणों के अन्य कारणों का पता लगाने के लिए नेत्र रगो विशेषज्ञ निम्नलिखित जांच कर सकते हैं:

  • रिफ्रेक्शन टेस्ट- यह टेस्ट मापता है कि आपकी आंखें रोशनी पर कितनी अच्छी तरह से फोकस करती हैं।
  • स्लिट लैंप का इस्तेमाल- यह उपकरण आपकी आंख के सामने को बड़ा करता है और रोशनी देता है। इससे आपके नेत्र रोग विशेषज्ञ को बीमारी के संकेतों के लिए इसकी जांच करने में मदद मिलती है।
  • ऑटोरेफ्रेक्टर या एबरोमीटर का उपयोग- एक ऑटोरेफ्रेक्टर या एबरोमीटर का उपयोग करके अपने लेंस की कॉर्निया, पुतली के आकार और घुमाव की माप लें। यह डिवाइस आपके चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस के प्रिस्क्रिप्शन को ठीक करने में मदद करते हैं। एक एबरोमीटर से आपकी आंख में उच्च-क्रम विपथन को मापा जा सकता है। यह विपथन चमकदार रोशनी के आसपास चकाचौंध, चमकते घेरे और स्टारबर्स्ट जैसे लक्षण पैदा कर सकते हैं।

उपचार विकल्प – Treatment Options In Hindi

Treatment Options for Presbyopiaप्रेसबायोपिया के इलाज के कई अलग-अलग तरीके हैं। ऐसे में आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प आपकी व्यक्तिगत जरूरतों पर निर्भर करता है। इसके कुछ सामान्य उपचार विकल्पों में निम्नलिखित शामिल हैं:

चश्मा

प्रेसबायोपिया के लिए सबसे आम उपचारों में से एक पढ़ने वाले चश्मे की जोड़ी यावनी रीडिंग ग्लास है। इस प्रकार का चश्मा ज्यादातर दवा दुकानों में उपलब्ध हैं और यह आपको निकट सीमा पर साफ रूप से देखने में मदद कर सकता है। अगर आपकी दृष्टि गंभीर रूप से प्रभावित होती है, तो आपको हर समय पढ़ने के लिए चश्मा पहनने की जरूरत हो सकती है।

कॉन्टैक्ट लेंस

प्रेसबायोपिया के लिए एक अन्य सामान्य उपचार विकल्प कॉन्टैक्ट लेंस है। इस स्थिति का उपचार करने के लिए कई अलग-अलग प्रकार के कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग किया जा सकता है। ऐसे में नेत्र रोग विशेषज्ञ आपके लिए सही प्रकार चुनने में आपकी मदद कर सकते हैं। कुछ सामान्य प्रकार के कॉन्टैक्ट लेंस में शामिल हैं:

  • मोनोविजन संपर्क: यह कॉन्टैक्ट लेंस दूर दृष्टि के लिए एक आंख और निकट दृष्टि के लिए दूसरी आंख को सही करते हैं। इसकी आदत पड़ने में कुछ समय लग सकता है, लेकिन यह प्रेसबायोपिया के लिए बहुत प्रभावी उपचार है।
  • बाइफोकल कॉन्टैक्ट: इन कॉन्टैक्ट के एक लेंस में दो अलग-अलग प्रिस्क्रिप्शन होते हैं। आमतौर पर इनका उपयोग निकट और दूर दृष्टि दोनों में सुधार के लिए किया जा सकता है। बायफोकल कॉन्टैक्ट्स की आदत पड़ने में कुछ समय लग सकता है, लेकिन यह प्रेसबायोपिया के लिए बहुत प्रभावी उपचार माना जाता है।
  • मल्टीफोकल कॉन्टैक्ट: इन कॉन्टैक्ट में एक लेंस के अंदर कई नुस्खे होते हैं और इनका उपयोग निकट और दूर दृष्टि दोनों को ठीक करने के लिए किया जा सकता है। मल्टीफोकल कॉन्टैक्ट्स की आदत पड़ने में कुछ समय लग सकता है, लेकिन यह प्रेसबायोपिया के लिए एक बहुत प्रभावी उपचार के तौर पर बहुत लोकप्रिय हैं।

सर्जरी

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारी आंखों के अंदर का प्राकृतिक लेंस कम लचीला होता जाता है। यह कम लचीलापन आंखों के लिए करीबी वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करना ज्यादा कठिन बना देता है। प्रेसबायोपिया आमतौर पर आपके शुरुआती 40 के बीच में ध्यान देने वाला हो जाता है और समय के साथ खराब होता रहता है। हालांकि, प्रेसबायोपिया को सर्जरी से ठीक किया जा सकता है। इसके लिए कई प्रकार की सर्जरी हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • रिफ्रेक्टिव लेंस एक्सचेंज (आरएलई): इस प्रक्रिया में प्राकृतिक लेंस को हटाया और एक आर्टिफिशियल इंट्राओकुलर लेंस यानी आईओएल से बदल दिया जाता है। जबकि, नया आईओएल आमतौर पर निकट दृष्टि के लिए निर्धारित होता है। ऐसे में आपको सर्जरी के बाद भी पढ़ने के चश्मे की जरूरत हो सकती है।
  • कंडक्टिव केराटोप्लास्टी (सीके): सीके कॉर्निया की परिधि के आसपास कोलेजन फाइबर को सिकोड़ने के लिए रेडियो तरंगों का उपयोग करती है। यह निकटता का एक अस्थायी हिस्सा बनाता है, जिससे निकट दृष्टि में सुधार होता है।
  • लेजर-असिस्टेड इन सीटू केराटोमाइल्यूसिस (लेसिक): लेसिक में कॉर्नियल फ्लैप बनाने के लिए लेजर का उपयोग करना शामिल है। इसके बाद सर्जन फ्लैप के नीचे से कुछ टिश्यू हटाते हैं और फ्लैप की स्थिति को बदल देते हैं।
  • फोटोरिफ्रेक्टिव कोरटक्टॉमी (पीआरके): पीआरके की प्रक्रिया लेसिक से मिलती-जुलती है, लेकिन इसमें कोई फ्लैप नहीं बनाया जाता है। इसके बजाय, नीचे के ऊतक को फिर से आकार देने से पहले कॉर्निया की बाहरी परत को हटा दिया जाता है। आमतौर पर लेसिक की तुलना में पीआरके की रिकवरी का समय ज्यादा होता है। हालांकि, पतली कॉर्निया वाले लोगों के लिए यह सर्जिकल प्रक्रिया एक बेहतर विकल्प हो सकती है।

प्रेसबायोपिया की रोकथाम – Prevention Of Presbyopia In Hindi

Prevention of Presbyopiaआमतौर पर बढ़ती उम्र के साथ आपकी आंख का लेंस कम लचीला होता जाता है। इससे आप आसानी से पास की वस्तुओं पर फोकस नहीं कर पाते हैं। इस स्थिति को प्रेसबायोपिया कहते हैं, जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का प्राकृतिक हिस्सा है। प्रेसबायोपिया की प्रोग्रेस को रोकने या धीमा करने के लिए कई चीजें की जा सकती हैं, जैसे:

नियमित जांच

प्रेसबायोपिया को रोकने के लिए आप जो सबसे अच्छी चीजें कर सकते हैं, वह है नियमित आंखों की जांच। इससे किसी भी दृष्टि संबंधी समस्याओं की जल्द से जल्द पहचान करने में मदद मिल सकती है। साथ ही यह जल्द से जल्द उपचार शुरू करने में मदद करता है। कभी-कभी प्रेसबायोपिया को चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या सर्जरी से ठीक किया जा सकता है।

सुरक्षात्मक आईवियर पहनना

अगर आप ऐसे वातावरण में काम करते हैं जहां आपकी आंखों को चोट लगने का खतरा है, तो सुरक्षात्मक आईवियर पहनना आपके लिए बहुत जरूरी है। यह आंखों को होने वाले किसी भी नुकसान को रोकने में मदद करता है, जिससे प्रेसबायोपिया होने की संभावना रहती है।

स्वस्थ आहार का सेवन

आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए एक स्वस्थ आहार का सेवन करना जरूरी है। इससे आपको कुछ दृष्टि समस्याओं को रोकने में भी मदद मिल सकती है। फल और सब्जियों जैसे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थ आंखों को नुकसान से बचाने में मदद कर सकते हैं। जबकि, मछली में पाए जाने वाले स्वस्थ वसा भी आंखों को स्वस्थ रखने के लिए फायदेमंद माने जाते हैं।

पर्याप्त नींद लेना

पर्याप्त नींद लेना आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है और यह दृष्टि संबंधी समस्याओं को रोकने में भी आपकी मदद कर सकता है। जब आप अच्छी तरह से आराम करते हैं, तो आपकी आंखों को दिन की गतिविधियों से उबरने और किसी भी मामूली नुकसान को ठीक करने का मौका मिलता है।

निष्कर्ष – Conclusion In Hindi

प्रेसबायोपिया आंखों की एक सामान्य स्थिति है, जो कई लोगों को उम्र बढ़ने के साथ प्रभावित करती है। इस स्थिति को प्रबंधित करने के लिए कई विकल्प उपलब्ध हैं। साथ ही सही जानकारी और उपचार योजना के साथ आप साफ दृष्टि का आनंद ले सकते हैं। इससे संबंधित ज्यादा जानकारी या मार्गदर्शन के लिए आज ही आई मंत्रा से संपर्क करें।

आई मंत्रा आपकी आंखों के लिए सबसे एडवांस सर्जिकल विकल्प प्रदान करता है, जिसमें पीआरकेफेम्टो लेसिकस्माइल सर्जरीस्टैंडर्ड लेसिक और कॉन्ट्यूरा विजन शामिल हैं। अगर आपके पास लेसिक सर्जरीलेसिक सर्जरी की कीमत और लेसिक सर्जरी की प्रक्रिया को लेकर कोई सवाल हैं, तो हमें +91-9711116605 पर कॉल करें। आप हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं।